जनपद अमेठी – विकासखंड जामो में जिसकी कई लाख की आबादी है महिलाओं के इलाज के लिए कोई व्यवस्था नहीं है सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में सरकारी महिला डॉक्टर भी तैनात नहीं है प्रसव के लिए गैर जिलों का चक्कर या गैर तहसीलों का चक्कर महिलाओं को लगाना पड़ता है महिलाओं के इलाज के लिए बहुत बड़ी परेशानी का सामना लोगों को उठाना पड़ता है ऐसे में शासन के द्वारा यह तय किया गया था जामो में जो पुराना प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बना हुआ है उसे समतल कर के वहां पर महिला अस्पताल का निर्माण किया जाएगा लोगों में आशा बहुत अच्छी लगी थी कि अब जामो में होगा महिला अस्पताल लेकिन अस्पताल की बिल्डिंग को गिराने के बाद में निर्माण कार्य शुरू न होने से लोगों निराशा हो रही है इस संबंध में जनपद अमेठी के मुख्य चिकित्सा अधिकारी आर एम श्रीवास्तव से जब इस संवाददाता ने बात किया तो उन्होंने बताया कि बिल्डिंग को ढहा दिया गया है यानी वहां पर समतलीकरण का कार्य करा दिया गया है अब शासन को तय करना है कि यहां पर अस्पताल बनेगा या नहीं बनेगा शासन इसके लिए बजट जारी करेगा और इसके लिए कार्यदाई संस्था भी तय की जाएगी तब कहीं जाकर के निर्माण कार्य होगा इस दिशा में अभी तक कहीं कोई कार्य शुरू नहीं हुआ है जिसके कारण से एक बार फिर जामो विकासखंड के निवासियों ने स्मृति ईरानी से जामो में महिला अस्पताल बनवाए जाने की मांग की है महिला केंद्रीय अस्पताल बनाए जाने की मांग की है क्योंकि जामो में अस्पताल ना होने से जामो के लोगों को बहुत बड़ी परेशानी का सामना उठाना पड़ता है जगदीशपुर में इंडो गल्फ का अस्पताल है वहीं शाहगढ़ और गौरीगंज के लोगों को मुंशीगंज का अस्पताल में इलाज मिल जाता है लेकिन जामो कटारी गूगल गोगमऊ पूरब गौरा समई रेसी नंद महार हरगांव बलभद्रपुर गोरिया बाद रामपुर औरंगाबाद शिवपुर शिवगढ़ सहित कई दर्जन गांव मे कई दर्जन गांव में महिलाओं के इलाज के लिए कोई साधन नहीं है के लोगों को/ रानीगंज तक के लोगों को यहां कोई महिला अस्पताल ना होने से कोई बड़ा अस्पताल ना होने से महिलाओं को बहुत बड़ी दिक्कत का सामना करना पड़ता है यही नहीं अब तक तमाम महिलाओं की मौत इलाज के अभाव में हो चुकी है आशा है चुनाव के पहले कैबिनेट मंत्री स्मृति ईरानी जी जामो में महिला अस्पताल बनवाई जाने के संबंध में ठोस कदम उठाएगी खासकर महिलाओं से उन्होंने इस संबंध में वादा भी किया था लेकिन अभी तक इस दिशा में कोई सार्थक कदम उठता हुआ नहीं दिख रहा है रिपोर्ट अशोक पांडेय पत्रकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here