संबोधि महिला मंडल द्वारा ४ महिलाए “बंदिनी पुरस्कार २०१८” से सम्मानित महिलाओ का आत्मविश्वास और प्रोत्साहन हेतु कार्यक्रम का आयोजन- लतिका रिखे

मीरारोड (सिटी न्यूज़ मुंबई)- महिलाओ में दबे हुए अहसास, आकांक्षाये, उमीदे, कला, हुनर, कुछ करने की चाह, और उनकी कोशिशो की सराहना व् मनोबल, उत्साह और आत्मविश्वास बढाने के लिए ही इस तरह के स्टेज का आयोजन किया जाना एकमात्र मकसद है इस तरह के विचार प्रकट करते हुए संबोधि महिला मंडल द्वारा ४ महिलाओ का बंदिनी पुरुस्कार-२०१८ सम्मान चिन्ह देकर पृस्कृत किया गया| उक्त कार्यक्रम में सेकड़ो महिलाओ ने अपनी उपस्तिथि दर्ज कराई
समाज में रहकर अपने परिवार की जिम्मेदार निभाने के साथ साथ बच्चो और घर के सभी घरेलू काम करने के बाद समाज हित में निस्वार्थ सेवा कर समाज सुधार कार्य में अपना योगदान देने वाली चार महिलाओं को कल मिरारोड़ के वोकार्ट अस्पताल के १४वी मंजिले स्थित ऑडियोटोरियम में संबोधि महिला मंडल नामक समाजसेवी संस्था द्वारा उक्त कार्यक्रम का आयोजन किया गया| जिसमे मिरारोड की झोपड़पट्टियों जाकर भिक मांगने वाले परिवार के बच्चे, कचरा बीनने वाले परिवारों के बच्चे और गरीब मजदुर के बच्चो को शिक्षा देने का कार्य करने वेल यस्मिन परवेज हुसैन(स्ट्रीट टीचर), “चार चौघी” नामक समाजसेवी संस्था के माध्यम से समाज में बुराइयों को ख़त्म और शोषित व् पिढीत महिलाओ को न्याय दिलाने वाली संस्थापक अध्यक्षा गौरी सावन्त, मीना बनसोडे (संस्थापिका अध्यक्षा- प्रषिक स्पेशल स्कुल) नामक स्कुल द्वारा विद्यार्थियो को हाई टेक शिक्षा प्रदान देने में अग्रसर और लेखिका नंदा सेज्वल जिन्होंने अपने कलम की ताकत और लेख के जरिये समाज सुधारने में अहम् रोल निभाया है ऐसी चारो महिलाओ को बंदिनी पुरस्कार २०१८ से सम्मानित किया गया| इस दौरान जहाँगीर आर्ट गलरी में पेंटिंग द्वारा अलग ही संदेसा देने वाले मशहूर पेंटर प्रकाश सालुंखे की पेंटिग्स भी प्रदर्शनी के लिए रखी गयी थी| उक्त कार्यक्रम को सफल बनाने में वोकार्ट अस्पताल ने भी अहम् भूमिका निभाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here