लोकल में डोर ब्लॉक करने वालो की खैर नही, आरपीएफ ने 10 को किया गिरफ्तार

ADVANCE FOR USE SUNDAY, OCT. 16, 2011 AND THEREAFTER - In this Monday, Oct. 10, 2011 photo, commuters hang on the outside of a local train in Mumbai, India. Already the second most populous country with 1.2 billion people, India is expected to overtake China around 2030 when its population soars to an estimated 1.6 billion. (AP Photo/Rafiq Maqbool)

(मंगेश निषाद सिटी न्यूज़ मुम्बई)नालासोपारा: पालघर जिला के पश्चिम रेलवे के उपनगरी नालासोपारा आरपीएफ द्वारा मंगलवार को लोकल ट्रेनों में डोर ब्लॉकिंग मामले को लेकर सक्रिय होती दिखाई दी। इस दौरान 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। आरपीएफ की सुरक्षा में रेलवे परिसर सहित प्लेटफॉर्मों पर आसामाजिक तत्वों में भारी कमी होती दिखाई दे रही है। यही नहीं आरपीएफ जवानों द्वारा कई सराहनीय व महत्वपूर्ण कार्य भी इस बीच किये गए है। आरपीएफ द्वारा डोर ब्लॉकिंग को लेकर विशेष तौर पर 20 टीमों को गठित किया गया है।ज्ञात हो कि पश्चिम रेलवे की सबसे भीड़ भाड़ स्टेशन के रूप में नालासोपारा स्टेशन को जाना जाता है। यहां प्रतिदिन हजारों की संख्या में यात्रियों लोकल की यात्रा करते है। रेलवे विभाग द्वारा उक्त स्टेशन की सुरक्षा को लेकर 12 सितम्बर 2016 को आरपीएफ स्टेशन स्थापना की गयी है। नालासोपारा रेलवे स्टेशन के प्रथम आरपीएफ इंचार्ज के रूप में आर.के.राय द्वारा पदभार संभाला गया है। राय के नेतृत्व में आरपीएफ जवानों द्वारा परिसर और स्टेशन प्लेटफॉर्मों पर यात्रियों की यात्रा को सुगम बनाने के साथ ही साथ आसमाजिक तत्वों पर काफी हद तक लगाम लगाया गया है। इसी कड़ी में मंगलवार को ए.के.सिंह (प्रधान मंडल सुरक्षा आयुक्त ) के आदेशनुसार अनूप शुक्ला (वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त ) के मार्गदर्शन में स्टेशन आरपीएफ इंचार्ज राय और जीआरपी पुलिस निरीक्षक भास्कर पवार के नेतृत्व में आरपीएफ व जीआरपी पुलिस टीम की संयुक्त मुहीम चलाया गया,जिसमे लोकल ट्रेनों के पायदान पर लटकर व ट्रेन के दरवाजे को ब्लाक करने वाले रेल यात्रियों को धर दबोचा गया। कार्रवाई के समय कुल 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। गिरफ्तार आरोपियों के ऊपर रेलवे एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है। आरोपियों को वसई रेलवे कोर्ट में पेश किया गया। जहां आरोपियों ने अपना गुनाह कबूला है। कोर्ट के न्यायाधीश द्वारा आरोपियों को आर्थिक दंड के रूप में दंडित किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here