एमबीएमसी में नए आयुक्त बी.जी.पवार ने संभाला अपना पदभार, इशारे पर काम करने की विधायक मेहता की बंद लफ्जों में धमकी

मिरारोड़ (सिटीन्यूज़ मुंबई)-मिराभाईन्दर मनपा से मनपा आयुक्त डॉ. नरेश गीते के राजनितिक तबादले के बाद नए आयुक्त बी.जी.पवार ने शुक्रवार को अपना चार्ज संभाला. आयुक्त के चार्ज सँभालने के बाद नागरिको और जनप्रतिनिधियों ने बधाई देकर उन्हें शुभकामनाये दी| जबकि विधायक नरेन्द्र मेहता ने नए आयुक्त के नियुक्ति पर दबे लफ्जों में आयुक्त बी.जी.पवार को दम भरते हुए बताया की उनके इशारे पर कार्य नहीं किया तो उन्हें भी यहाँ से जाना पड़ सकता है|
ज्ञात हो की मनपा पूर्व आयुक्त डॉ. नरेश गीते और स्थानीय भाजपा विधायक का चल रहा शीतयुद्ध अब आरपार की लड़ाई और वर्चस्व का मामला बन गया था| मेहता ने आयुक्त के तबादले के लिए सभी हतकंडे अपना लिए थे| मनपा में ठेके पर काम कर रहे कंप्यूटर ऑपरेटर की हड़ताल करवा कर मेहता ने आयुक्त को परेशानी में लाकर खड़ा करदिया था| आखिरकार मनपा आयुक्त को ऑपरेटर की मांग के आगे झुकना पढ़ा| और उन्हें स्थायी करने का प्रस्ताव राज्य सरकार को भेजना पड़ा तब कही जाकर कंप्यूटर ऑपरेटर ने अपना कम बंद आन्दोलन वापस लिया और पालिका का कामकाज शुरू हुआ लेकिन तबतक मनपा में सत्ताधारी संवैधानिक पदो पर बैठे नेताओ ने आयुक्त के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए अपने दफ्तरों को सिल कर मनपा में आनाजाना बंद कर दिया| और मनपा आयुक्त की शिकायत मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडवनिस से की तब इन सब को देखते हुए मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडवनिस ने आयुक्त नरेश गीते का तबादला नासिक के जिल्हा परिषद के बतौर सिईओ नियुक्त किया और गीते की जगह पर २००६ बेच के आईएएस अफसर बी.जी. पवार जो की मंत्रालय में जॉइंट सेक्रेटरी हाउसिंग डिपार्टमेंट थे उन्हें मनपा में आयुक्त बनाकर भेजा गया है|
देखना है की मनपा आयुक्त बी.जी.पवार मनपा में फैले भ्रष्टाचार, बरसो से एक ही पद पर कुंडली मारे बैठे भ्रष्ट अधिकारी, अवैध निर्माण, हॉकर्स, इत्याधि मामलो से कैसे निपटते है| साथ ही नरेश गीते की तरह पारदर्शक कार्य करने में हिम्मत दिखाते है या फिर सत्ताधारियो के ताल में ताल मिलकर गुनगुनाते है यह तो आनेवाल समय ही बतायेगा| बहरहाल नए आयुक्त को बंद लफ्जों में धमकाते हुए विधायक नरेन्द्र मेहता जरुर चेताया है की उनके इशारे पर अगर वे नहीं नाचेगे तो उनका भी गीते जैसा ही हाल होगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here